पंजाब में तंबाकू-गुटखा पर कैप्टन सरकार ने लगाई पाबंदी, पढ़ें

चंडीगढ़, (PNL)  : फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्डज़ रैगूलेशनज़, 2011 के अनुसार मार्केट में उपलब्ध गुटका, पान मसाला (जिसमें तम्बाकू या निकोटीन पाई जाती है), प्रोसैस्ड /फ्लेवरड / सुगंधित चबाने वाले तम्बाकू और अन्य कोई भी उत्पाद जिनमें तम्बाकू या निकोटीन पाई जाती है आदि के उत्पादन, बिक्री या वितरण, स्टोरेज पर एक साल की पाबंदी लगा दी गई है।
फूड और ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन कमिशनर, पंजाब काहन सिंह पन्नू ने कहा कि चाहे यह उत्पाद पैक किये हो या न किये हों, अकेले या अलग-अलग पैक्ट सांझे तौर पर बेचे जाएं, इन पर पाबंदी संबंधी यह नियम सख्ती से लागू होंगे। इस संबंधी नोटिफिकेशन 09 अक्तूबर, 2018 को जारी किया जा चुका है।
पन्नू ने कहा कि यह देखा गया है कि गुटके की बिक्री पर लगाई पाबंदी को नाकाम बनाने के लिए उत्पादकों द्वारा जो पान मसाला (बिना तम्बाकू) बेचा जाता है और जो फ्लेवरड चबाने वाला तम्बाकू अलग सैशे में पैक करके दिया जाता है, उनको अक्सर एक ही विक्रेता की तरफ से एक ही जगह पर दोनों चीजों को इक्ट्ठे बेचा जाता है।
यह जान-बुझ कर किया जाता है जिससे उपभोक्ता पान-मसाला और फ्लेवरड चबाने वाला तम्बाकू एक ही जगह से खरीद कर इसका मिश्रण बना कर इसको गुटके की जगह इस्तेमाल कर सकें। इस तरह गुटका जो कि सेवन के लिए पहले से ही तैयार मिश्रण होता है, उसकी जगह पर पान-मसाला और फ्लेवरड /सुगंधित चबाने वाले तम्बाकू भी इस्तेमाल किये जा रहे हैं। इसके मद्देनजऱ राज्य में प्रोसैस्ड /फ्लेवरड / सुगंधित चबाने वाले तम्बाकू, गुटका और तम्बाकू युक्त पान मसाले पर पाबंदी लगाई गई है।
Please follow and like us: