श्री मुक्तसर साहिब के एसएसपी के हक में उतरे कैप्टन अमरिंदर सिंह, कहा-नहीं करूंगा सस्पेंड

चंडीगढ़, (PNL) : श्री मुक्तसर साहिब के एसएसपी मनजीत सिंह ढेसी के विरुद्ध शिरोमणी अकाली दल की तरफ से लगा गए दोषों को रद्द करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि जि़ला परिषद और पंचायत समिति चुनाव में अपनी पक्की हार से ध्यान एक तरफ़ करने के लिए अकाली लीडरशिप की तरफ से ऐसी निराशाजनक कोशिश की जा रही है। उन्होंने अकालियों द्वारा ऐसा करने के लिए तीखी आलोचना की है।
आज यहां जारी एक बयान में मुख्यमंत्री ने कहा कि अकाली चुनाव में अपनी लगातार हो रही हारों के कारण पूरी तरह बौखला गए हैं और हाल ही के चुनाव में उनकी हार और भी पक्की हो गई है जिस कारण अब वह अपना चेहरा छिपाने के लिए ऐसे रास्ते तलाश रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि एस.एस.पी. ने अपनी जि़म्मेदारी निभाई है और चुनाव को शांतीपूर्ण करवाने को यकीनी बनाया है। एक अधिकारी को निशाना बनाने के लिए उन्होंने शिरोमणी अकाली दल की लीडरशिप के शर्मनाक व्यवहार की तीखी आलोचना की।
मुख्यमंत्री ने कहा कि शिरोमणी अकाली दल की लीडरशिप ने हमेशा ही राज्य में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की अथॉरिटी को घटाया है और इसने एक बारी फिर यह दिखा दिया है कि इसकी नजऱों में ऐसे अधिकारियों के लिए कोई भी सत्कार नहीं है। उन्होंने कहा कि इस समय पुलिस फोर्स पूरी तरह आज़ाद होकर अपना कार्य कर रही है जिसको पिछली अकाली सरकार ने पूरी तरह जकड़ कर रखा हुआ था।
एस.एस.पी. के विरुद्ध लगाए गए आधारहीन दोषों के सम्बन्ध में कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि शिरोमणी अकाली दल की लीडरशिप ने कभी भी इमानदार अधिकारियों को उत्साहित या पदोन्नत नहीं किया और वह हमेशा यह ही विश्वास करती रही है कि हरेक अधिकारी भ्रष्ट है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार मेें अधिकारी पूरी तरह इमानदारी और बिना किसी भय से राज्य की कानून व्यवस्था को बनाकर रख रहे हैं और अकाली लीडरशिप के लिए यह स्वीकार करना मुश्किल हो रहा है।
मुख्यमंत्री ने आधारहीन दोषों के आधार पर एस.एस.पी. का तबादला करने की शिरोमणी अकाली दल की माँग को सिरे से ही खारिज कर दिया। मुख्यमंत्री ने राज्य में लोगों और सरकारी कर्मचारियों पर दहशत का माहौल पैदा करने के लिए शिरोमणी अकाली दल की लीडरशिप की तीखी आलोचना की। शिरोमणी अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल की तरफ से वोटरों पर हमला करने और उनको भय-भीत करने के लिए अपने समर्थकों को दिए जा रहे हुक्म की सोशल मीडिया पर वायरल हुई वीडियो का जि़क्र करते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि यह अकाली पार्टी का असली चेहरा है जिससे इसकी लीडरशिप पूरी तरह नंगी हो गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अकालियों ने पिछले साल के विधानसभा चुनाव के बाद अपनी लगातार हो रही हार से कोई भी सबक नहीं लिया और अकाली जोर-जबरदस्ती और गुंडागर्दी के साथ जीत हासिल करने के सम्बन्ध में अभी भी भ्रम में फंसे हुए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार पुलिस फोर्स या प्रशासन को भय-भीत करने की अकालियों को कभी भी आज्ञा नहीं देगी जो अपनी नकारात्मक छवि को ख़त्म करने के लिए कड़ी जद्दो-जहद कर रहे हैं क्योंकि शिरोमणी अकाली दल और भारतीय जनता पार्टी के 10 साल के कुशासन ने उनकी यह छवि बना दी थी।

कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कानून को अपने हाथों में लेने के लिए सुखबीर की तीखी आलोचना की। उन्होंने कहा कि शिरोमणी अकाली दल जैसी प्रमुख राजनैतिक पार्टी के प्रधान की यह कार्यवाही उचित नहीं है। मुख्यमंत्री ने जि़ला परिषद और पंचायत समिति चुनाव को स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से निर्विघ्न कराने के लिए सिविल और पुलिस प्रशासन की सराहना की। उन्होंने भरोसा प्रकट किया कि पंजाब के लोग शिरोमणी अकाली दल की गुंडागर्दी की संस्कृति के विरुद्ध बड़ा जनादेश देंगे।

Please follow and like us:
error: Content is protected !!