‘ग्रेजुएट’ नहीं है केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, चुनावी हलफनामे में आखिरकार खुद की घोषणा, पढ़ें

अमेठी, (PNL) : उत्तर प्रदेश की अमेठी सीट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ लोकसभा चुनाव लड़ रहीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने गुरुवार को चुनाव आयोग को दिए गए हलफनामे में घोषित किया कि वे ‘ग्रेजुएट’ नहीं हैं. यह पहली बार है जब उन्होंने अपने चुनावी हलफनामे में साफ लिखा कि उन्होंने तीन साल की डिग्री कोर्स पूरा नहीं किया.
हलफनामे में उच्चतम शिक्षा के कॉलम में स्मृति ईरानी ने लिखा- दिल्ली यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग (पत्राचार) से ‘बैचलर ऑफ कॉमर्स पार्ट-1.’ इस कोर्स कोर्स का वर्ष उन्होंने 1994 लिखा है. इसका अर्थ है कि उन्होंने इस साल यह डिग्री कोर्स शुरू किया था लेकिन इसे पूरा नहीं किया. उन्होंने कोष्टक में लिखा है कि ‘तीन साल की डिग्री कोर्स अपूर्ण.’ हलफनामे के अनुसार ईरानी ने 1991 में हाईस्कूल की परीक्षा पास की, 1993 में इंटरमीडिएट की परीक्षा पास की.
इससे पहले साल 2014 में अमेठी सीट से पहली बार चुनाव लड़ने के दौरान स्मृति ईरानी ने हलफनामे में लिखा था कि 1994 में उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग (पत्राचार) से बैचलर ऑफ कॉमर्स पार्ट-1 किया. रॉबर्ट वाड्रा ने कहा- कांग्रेस के लिए देशभर में करूंगा प्रचार, तो स्मृति ईरानी बोलीं- लोग अपनी जमीन बचाएं.
इससे पहले साल 2004 में कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल के खिलाफ दिल्ली के चांदनी चौक लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने के दौरान स्मृति ने एफिडेविट में लिखा था कि उन्होंने सन 1996 में दिल्ली यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ करस्पांडेंस से बैचलर ऑफ आर्ट किया. राज्यसभा सदस्य स्मृति ईरानी की प्रोफाइल में लिखा है कि वे दिल्ली के होली चाइल्ड अक्सिलियम में शिक्षित हुईं और दिल्ली यूनिवर्सिटी के दिल्ली स्कूल ऑफ करस्पांडेंस से शिक्षा ले रही हैं.
कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी पार्टियां स्मृति ईरानी पर अपनी शिक्षा को लेकर विरोधाभासी जानकारी देने का आरोप लगाती रही हैं. अमेठी से बीजेपी की लोकसभा उम्मीदवार और केंद्रीय मंत्री स्‍मृति ईरानी ने अपने चुनावी हलफनामे में 4.71 करोड़ रुपये की संपत्ति घोषित की है. ईरानी के हलफनामे के अनुसार स्‍मृति के पास 1.75 करोड़ की चल संपत्ति और 2.96 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति है. इसमें 1.45 करोड़ रुपये मूल्य की कृषि योग्य भूमि और 1.50 करोड़ की आवासीय इमारत शामिल है.
हलफनामे के अनुसार 31 मार्च तक स्‍मृति के पास 6 लाख 24 हजार रुपए नकद और बैंक खाते में 89 लाख से ज्यादा की रकम जमा है. उनके पास राष्ट्रीय बचत योजना और डाक विभाग की योजना में 18 लाख रुपयों से ज्यादा की रकम जमा है जबकि 1.05 लाख रुपये के अन्य निवेश हैं.
Please follow and like us: