हंगामे की भेंट चढ़ा पंजाब विधानसभा का बजट सेशन, पहले दिन अकाली दल ने किया वाकआउट

चंडीगढ़, (PNL) : पंजाब विधानसभा का बजट सेशन का पहला दिन हंगामे की भेंट चढ़ गया। राज्यपाल वीपी सिंह बदनौर ने अंग्रेजी में अभी अभिभाषण पढ़ना शुरू किया ही था कि इसका शिरोमणि अकाली दल और लोक इंसाफ पार्टी ने विरोध जताया। इसके बाद शिअद ने सदन से वाकआउट कर दिया। बजट 18 फरवरी को पेश किया जाएगा। सत्र 21 फरवरी तक चलेगा।
किसान कर्ज माफी का मुद्दा मंगलवार को विधानसभा के अंदर व बाहर गूंजा। अकाली दल ने जहां नारेबाजी और शोरशराबा कर सदन के अंदर राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान वॉकआउट किया, वहीं बाहर आकर सड़क पर किसान कर्ज माफी के मुद्दे पर सरकार को घेरा। इस दौरान अकाली दल के साथ आत्महत्याएं कर चुके किसानों को परिजन भी मौजूद थे। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अकाली दल द्वारा किए गए वॉकआउट व धरना प्रदर्शन को नाटक करार दिया। कहा कि अकाली अब ड्रामे करने लायक ही रह गए हैं। जब इनकी 10 साल सरकार रही तब इन्होंने कर्ज माफ नहीं किया।
अकाली दल ने राज्यपाल के अभिभाषण को झूठ का पुलिंदा बताया। सदन में अकाली-भाजपा विधायकों का नेतृत्व प्रकाश सिंह बादल व सुखबीर बादल की अनुपस्थिति में पूर्व वित्त मंत्री परमिंदर सिंह ढींडसा ने किया। इस दौरान अकालियों ने कैप्टन सरकार पर किसानों, नौजवानों, बेरोगारों, दलितों, गरीबों, विद्यार्थियों और सरकारी कर्मचारियों के साथ विश्वासघात करने का आरोप लगाया। राज्यपाल के भाषण के दौरान किसानों के मुद्दे पर लोक इंसाफ पार्टी और आम आदमी पार्टी के सदस्यों ने भी विरोध जताया।
Please follow and like us: