पंजाब सरकार नागालैंड को हर साल बेचेगी 200 करोड़ रुपए के सूअर, पढ़ें

चंडीगढ़, (PNL) : पंजाब के पशु पालन मंत्री स. बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा है कि पंजाब द्वारा 200 करोड़ रुपए की कीमत के जि़ंदा सूअर हर वर्ष नागालैंड को सप्लाई किये जाएंगे। उन्होंने बताया कि इस संबंधी आज नागालैंड सरकार के एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल के साथ मीटिंग के दौरान आपसी सहमति बनी है। इस संबंधी औपचारिक समझौता आने वाले दिनों में किया जायेगा।
स. सिद्धू ने बताया कि प्रतिनिधिमंडल ने विशेषत: पंजाब के सूअरों में अपनी रूचि दिखाई है क्योंकि नागालैंड के लोग देश के दूसरे क्षेत्रों के सूअरों के मुकाबले पंजाब के सूअरों को बढिय़ा और स्वस्थ मानते हैं। उन्होंने बताया कि सहमति के अनुसार 8000 सूअर हर महीने नागालैंड को भेजे जाएंगे और वार्षिक 200 करोड़ रुपए की आय पंजाब के सूअर पालकों को होगी।
स. सिद्धू ने बताया कि फि़लहाल पंजाब के 100 जि़ंदा सूअर नागालैंड को भेजे जाएंगे जिनकी प्रदर्शनी नागालैंड के विभिन्न हिस्सों में लगाई जायेगी जिससे नागालैंड के लोगों में पंजाब के सूअरों के प्रति रूचि को और बनानेे के यत्न भी किये जाएंगे। उन्होंने बताया कि पंजाब द्वारा सूअरों के साथ उनके स्वास्थ्य को प्रमाणित करते हुए स्वास्थ्य सर्टिफिकेट भी भेजे जाएंगे।
स. सिद्धू ने आगे बताया कि यह कदम से पंजाब के सूअर पालन के धंधे से जुड़े लोगों और किसानों को आय बढ़ाने का मौका मिलेगा। उन्होंने बताया कि इसके साथ ही नागालैंड के प्रतिनिधिमंडल के साथ चिकन मीट और मछली सप्लाई करने संबंधी भी विचार-विमर्श किया गया।
स. सिद्धू ने नागालैंड के प्रतिनिधिमंडल सम्मुख वहां के प्रगतिशील किसानों के साथ-साथ वैटरनरी डाक्टरों को पंजाब में विशेष प्रशिक्षण के लिए न्योता भी दिया जिससे पंजाब द्वारा पशु पालन के पेशे में अपनाई जा रही उच्च तकनीक का आदान-प्रदान किया जा सके। इसके बाद नागालैंड के प्रतिनिधिमंडल को नाभा के पिग्ग फार्म, गुरू अंगद देव वैटरनरी और एनिमल साईंसेज़ यूनिवर्सिटी का दौरा भी करवाया गया।
नागालैंड के प्रतिनिधिमंडल में नागालैंड सरकार के प्रमुख सचिव लोहूडीलातूआ किरे, नागालैंड सरकार के सलाहकार बौंखाऊ कोनायक, ज्वाइंट डायरैटर डा. अनुनगुला इमडौंग फ़ोम, नागालैंड सरकार के मार्किटिंग सलाहकार राजपाल सिंह अरोड़ा के अलावा सरकार के सलाहकार रिचर्ड बैलहो शामिल थे। पंजाब सरकार द्वारा डायरैक्टर डेयरी विकास स. इन्द्रजीत सिंह, डायरैक्टर मछली पालन श्री मदन मोहन भी उपस्थित थे।
Please follow and like us:
error: Content is protected !!