परकाश सिंह बादल को सजा दिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी : कैप्टन अमरिंदर सिंह

चंडीगढ़, (PNL) : पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने प्रकाश सिंह बादल को कोटकपूरा और बहबल कलां की गोलीबारी घटना के लिए पूरी तरह जि़म्मेदार ठहराते हुए कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री को सजा दिलाने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी जायेगी और उनको हर हाल में कानून के कटघरे में खड़ा किया जायेगा ।
पूर्व मुख्यमंत्री के साथ रत्ती भर भी नरमी न बरतने की अपनी बात दोहराते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज यहाँ चुनिंदा पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए कहा कि यह बिल्कुल ही संभव नहीं है कि बादल को पुलिस गोलीबारी के बारे में जानकार ही न हो ।
मुख्यमंत्री ने कहा कि विशेष जांच टीम (एस.आई.टी) की रिपोर्ट अदालत में जायेगी और सारी सच्चाई सामने आ जायेगी । उन्होंने कहा कि सी.बी.आई से जांच वापिस लेने और यह पंजाब पुलिस की एस.आई.टी के हवाले करने का फ़ैसला राज्य विधानसभा ने लिया है जिसने महसूस किया है कि केंद्र में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार है और इसके द्वारा केंद्रीय एजेंसी को प्रभावित किया जा सकता है क्योंकि भाजपा शिरोमणी अकाली दल की सहयोगी है।
कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि बहबल कलाँ और कोटकपूरा की गोलीबारी की घटनाएँ और बेअदबी के मामलों की जांच के लिए रणजीत सिंह कमिशन स्थापित किया गया था जिसने आगे और जांच का सुझाव दिया है जिसके लिए एस.आई.टी स्थापित की जा रही है । उन्होंने कहा कि रणजीत सिंह कमिशन तथ्यों की जांच करने वाला पैनल था और इसने बे-गुनाह लोगों पर जान-बूझकर और मूर्खतापूर्ण ढंग से गोलीबारी को अंजाम देने वाली घटनाओं की तह तक जाकर जांच करने का अपना कार्य किया।
बादल की तरफ से गोलीबारी बारे कुछ भी पता न होने और उसकी तरफ से इस सम्बन्ध में कसम खाने को तैयार होने की बात कहे जाने को कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने पूरी तरह रद्द कर दिया और उन्होंने कहा कि यह उसकी घटनाओं में भूमिका से लोगों का ध्यान एक तरफ़ करने का ढकोसला है। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि उसने अकाल तख्त पर अनेकों बार झूठी कसम खाई है ।
मुख्यमंत्री ने कहा कि यह किस तरह संभव हो सकता है कि एक मुख्यमंत्री को गोलीबारी बारे कुछ पता भी न हो । उन्होंने कहा कि पूर्व डी.जी.पी सुमेध सैनी ने रणजीत सिंह कमिशन के आगे स्पष्ट रूप में कहा है कि बादल ने उसे सख्ती के साथ भीड़ को खदेडऩे के लिए कहा था।
उन्होंने कहा कि एक मुख्यमंत्री के होते हुए अगर मेरे राज्य में कुछ घटता है तो मैं इस तरह का झूठ बोल कर उससे मुंह नहीं फेर सकता। उन्होंने कहा कि अगर मेरे नाक के नीचे कुछ घटता है और मैं उस बारे जानकारी ही नहीं हैं तो मुझे ओहदे से एक तरफ़ कर देना चाहिए । उन्होंने कहा कि कमिशन की जांच के दौरान यह बात सामने आई है कि गोलीबारी से पहले बादल को 22 कॉल की गई थीं।
Please follow and like us:
error: Content is protected !!