विधानसभा में मनजिंदर सिंह सिरसा की पगड़ी उतरी, आप नेताओं पर पगड़ी उतारने और पीटने का आरोप

नई दिल्ली, (PNL) : दिल्ली विधानसभा सत्र शुरू होते ही सिख दंगों पर चर्चा की मांग को लेकर सदन में हंगामा शुरू हो गया। इस दौरान नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता और जगदीश प्रधान को सदन से बाहर कर दिया गया। इस बीच 15 मिनट के लिए विधानसभा की कार्यवाही स्थगित भी करनी पड़ी। हंगामे के बीच बीजेपी विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा की पगड़ी उतारने का मामला सामने आया है। सिरसा ने विधानसभा से बाहर आकर कहा कि 1984 के दंगों की बात करने के कारण आम आदमी पार्टी के विधायकों ने उनके साथ यह हरकत की है।
दअसल, दिल्ली विधानसभा सत्र शुरू होते ही विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि जिस तरह विधानसभा में राजीव गांधी मामले में प्रस्ताव बदला गया, वह सदन की गरिमा को ठेस पहुंचाने वाला है। उन्होंने आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी कांग्रेस के साथ चुनावी गठजोड़ करना चाहती है, इसीलिए ऐसा किया गया। जिसके बाद सदन में हंगामा शुरू हो गया।
इस बीच बीजेपी विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा, ‘दिल्ली विधानसभा के सदन में मेरी पगड़ी उतारी गई। बाथरूम में पगड़ी ठीक की। विधानसभा में सिखों की बात करना क्या गलत है? वहां सौरभ भारद्वाज और जरनैल सिंह मौजूद थे। मैं बार बार कह रहा हूं कि मेरी पगड़ी न उछाली जाए। आज स्पीकर को बदलने का प्रस्ताव दिया।’
बीजेपी विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने आगे कहा कि कहा ‘मैं स्पीकर साहब से बात करने गया था कि 8,000 सिखों को तेल डालकर मारने का मसला है। कांग्रेस दिल्ली के सिखों की कातिल है, लेकिन स्पीकर साहब ये घोषित करने को तैयार नहीं हैं, क्योंकि आप और कांग्रेस गठबंधन करने की तैयारी कर रही हैं।
मार्शल मुझे बाहर जाने के लिए कहते हैं। मेरी पगड़ी हाथ में आ गई। मेरी पगड़ी मत उतारो, मेरी पगड़ी उतारकर मुझे बेइज्जत किया गया। मैं बार-बार कह रहा था मेरी पगड़ी मत उतारो। ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी सिख विधायक की पगड़ी उतारी गई है।
इस मामले में यूथ अकाली दल के जालंधर जिले के प्रधान सुखमिंदर सिंह राजपाल ने इस हमले के पीछे अरविंद केजरीवाल का हाथ बताया है। उन्होंने कहा कि इस घटना से सिख संगत में रोष है।
Please follow and like us: