जालंधर : आरटीआई एक्टिविस्ट सिमरनजीत सिंह और रविंदर पाल चड्ढा के खिलाफ हुए शहर के कई पार्षद, दोनों को ब्लैकलिस्ट करने का दिया प्रस्ताव


जालंधर, (PNL) : नगर निगम की हाउस की बैठक में आज आरटीआई डालने वालों का भी मुद्दा छाया रहा। इस दौरान शहर के कई पार्षद आरटीआई एक्टिविस्ट सिमरनजीत सिंह और रविंदर पाल चड्ढा के खिलाफ हो गए। सभी ने मेयर जगदीश राजा से दोनों को ब्लैकलिस्ट करने का प्रस्ताव रखा। उनका आरोप है कि ये दोनों बेवजह लोगों की आरटीआई डालकर उन्हें परेशान करके ब्लैकमेल करते हैं।
मेयर ने उनका प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है, लेकिन अंतिम फैसला विभागीय जानकारों की सलाह लेने पर ही लिया जाएगा। जानकार बताएंगे कि क्या हाउस में प्रस्ताव पास करके किसी व्यक्ति को आरटीआई का जवाब देने से मना किया जा सकता है या नहीं।
चूंकि पार्षदो की मांग है कि इन दोनों एक्टिविस्टों की आरटीआई और शिकायत का जवाब न दिया जाए। इनके खिलाफ प्रस्ताव पेश करने वालों में विधायक राजिंदर बेरी की पत्नी उमा बेरी, सीनियर डिप्टी मेयर सुरिंदर कौर, विधायक परगट सिंह के करीबी पार्षद रोहन सहगल, बलराज ठाकुर, नीरजा जैन, मनदीप कौर जस्सल, लखवीर सिंह बाजवा, कंवलदीप कौर गुल्लू, बंटी नीलकंठ व अन्य शामिल थे।
कोई पार्षद साबित करके दिखाए : चड्ढा
रविंदर पाल चड्ढा का कहना है कि ये पार्षद सब मिले हुए हैं। कोई एक भी पार्षद साबित करके दिखाए कि उन्होंने किसी को ब्लैकमेल किया हो तो वह फांसी चढ़ने को भी तैयार हैं। उन्होंने कहा कि पार्षद खुद निगम अधिकारियों से मिलकर पैसे खाते हैं और बदनाम उन्हें करते हैं। उनका ये भी कहना है कि हाउस के पास ऐसी कोई शक्ति नहीं है कि वह किसी आरटीआई का जवाब अपने स्तर पर रोक ले।
Please follow and like us:
error

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Punjabi News App, iOS Punjabi News App Read all latest India News headlines in Punjabi. Also don’t miss today’s Punjabi News.