जालंधर में शराब ठेकेदार को फायदा पहुंचाने के लिए एक्साइज विभाग ने किया ‘खेल’, चुनाव आयोग का चला डंडा, दो अधिकारी बदले

जालंधर, (PNL) : एक बड़े शराब ठेकेदार को फायदा पहुंचाने के लिए एक्साइज विभाग ने बड़ा खेल रच दिया। इस खेल में ठेकेदार को साफ तौर पर फायदा पहुंचाना था, लेकिन एक आम आदमी ने इनकी पोल खोल दी। इसके बाद चुनाव आयोग ने डंडा चलाया और एक्साइज विभाग के दो अधिकारी बदल डाले। ये दोनों ईटीओ स्तर के बताए जा रहे हैं। इन्हें जालंधर से लुधियाना शिफ्ट कर दिया गया है। इसके बाद इन पर विभागीय कारवाई भी होगी और वह सस्पेंड भी हो सकते हैं।
दरअसल कुछ दिन पहले जालंधर में एक्साइज विभाग ने हजारों पेटियों के हिसाब से शराब बरामद की थी। वह शराब अवैध नहीं वैध थी, लेकिन विभाग ने उसके बारे में चुनाव आयोग को कोई सूचना नहीं दी जबकि नियम है कि जब चुनाव आंचार संहिता लागू हो तो एक्साइज विभाग को हरेक जानकारी विभाग को 24 घंटे के भीतर बतानी पड़ती है, मगर यहां ऐसा नहीं हुआ।
शराब ठेकेदार को फायदा पहुंचाने के लिए एक्साइज विभाग की कुछ काली भेड़ों ने दो से तीन दिन बाद चुनाव आयोग को सूचना दी। बताया जा रहा है कि शराब की पेटियां हजारों में थी, लेकिन उसकी गिनती भी कम बताई गई। इसके अलावा कौन से ब्रांड की कितनी शराब थी, उसमें भी गोलमाल किया गया। इस मामले बारे पूरी शिकायत चुनाव आयोग की एप्प पर किसी आम आदमी ने कर दी। उसके बाद जालंधर के डीसी वरिंदर कुमार शर्मा ने भी एक्साइज विभाग के खिलाफ रिपोर्ट तैयार करके आयोग को भेज दी, जिसके बाद इन पर एक्शन लिया गया है।
PNL से बातचीत दौरान डीसी वरिंदर शर्मा ने कहा कि उन्होंने रिपोर्ट बनाकर भेज दी थी। इन पर एक्शन क्या हुआ, इस बारे उन्हें जानकारी नहीं है। वहीं डीईटीसी जसपिंदर सिंह ने कहा कि तबादलों के बारे में उन्हें जानकारी नहीं है। उन्होंने किसी का तबादला नहीं किया, मगर चंडीगढ़ से हो सकता है।
Please follow and like us: