पेट के कीड़ों से राष्ट्रीय मुक्ति दिवस के राज्य स्तरीय प्रोग्राम की शुरुआत

मोहाली, (PNL) : पेट के कीड़ों से राष्ट्रीय मुक्ति दिवस की राज्य स्तरीय शुरुआत सरकारी स्कूल फेका-2, एस.ए.एस. नगर (मोहाली) व आंगनवाड़ी केंद्र से की गई। इस दौरान स्पैशल सैक्रेटरी-हैल्थ कम मिशन डायरैक्टर नैशनल हैल्थ मिशन पंजाब अमित कुमार द्वारा गोली खिलाकर की गई।
इस अवसर पर मिशन डायरैक्टर नैशनल हैल्थ मिशन पंजाब ने बताया कि पूरे देश में नैशनल हैल्थ मिशन के तहत पेट के कीड़ों से राष्ट्रीय मु1ित दिवस को फरवरी व अगस्त माह में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य बच्चों को पेट के कीड़ों से मुक्ति, स्वास्थ्य पर प्रभाव और बचाव व अन्य इंफैक्शन के बारे लोगों को जागरूक करना है।
अमित कुमार ने बताया कि स्वास्थ्य व परिवार कल्याण विभाग, पंजाब की तरफ से 1 से 19 वर्ष आयु तक के सभी बच्चों को ऐलबन्डाकाोल खिलाई गई हैं। इसके तहत 71 लाख 92 हज़ार 213 बच्चों को कवर करने का टीचा है। यह गोलियां (चबाकर खाने वाली) सभी स्कूलों व आंगनवाड़ी केंद्रों में मुफ्त़ उपलब्ध करवाई गई हैं। इसके साथ गैर रजिस्टर्ड और स्कूल से वंचित बच्चों को भी यह दवाइयां मुफ्त उपलब्ध करवाई गई हैं। जो बच्चे किसी कारण दवाई नहीं खा सके, उन्हें मोप-अप दिवस के मौके पर 14 फरवरी, 2019 को खिलाई जाएगी।
प्रोग्राम अफसर-आर.के.एस.के. डा. सुखदीप कौर ने बताया कि पेट में कीड़ों की समस्या के कारण बच्चों में अनीमिया, कुपोषण, दिमागी व शरीरिक विकास में कमी आ जाती है। खून की कमी के कारणों में मुख्य कारण संतुलित खुराक की कमी, कुपोषण और पेट के कीड़े होते हैं। खून की कमी कारण बच्चे थके-थके महसूस करते हैं। बच्चों के स्वभाव में चिड़-चिड़ापन आ जाता है। बच्चों का पढ़ाई में मन नहीं लगता और याद-दाशत कमकाोर होने लगती है। बच्चों का शरीरिक विकास रुक जाता है और काम करने की शक्ति हो जाती है। खून की कमी से बच्चों के पूरे जीवन पर बुरा प्रभाव पड़ता है।
इस दौरान सिवल सर्जन, एस.ए.एस. नगर (मोहाली) डा. रीटा भारद्वाज ने संबोधित किया और डीवार्मिंग की दवाई के लाभ के बारे जानकारी दी और उन्होंने बच्चों को हाथों को साफ रखने और आसपास सफाई रखने के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर किाला टीकाकरण अफसर डा. वीना जरेवाल, एसएमओ डीएच फेका-2 डा. मनजीत सिंह, जिला शिक्षा अफसर श्रीमती संतोष कुमार, स्टेट प्रोग्राम अफसर (आईईसी व मीडीया) श्री शिविंदर सहदेव, असिस्टेंट प्रोग्राम अफसर डा. योगेश कुमार राय, डिप्टी डायरैक्टर (महिला व बाल विकास विभाग, पंजाब) श्री हरपाल सिंह, डीपीओ सुखदीप सिंह व सरकारी स्कूल, फेका-2 की प्रिंसिपल श्रीमती रेनूं मिश्रा मौजूद थे।
Please follow and like us: