आम जनता के साथ ट्रेन में बैठकर शहीदी स्मारक पर माथा टेकने पहुंचे फिरोजपुर के डीसी चंद्र गैंद

फिरोजपुर, (PNL) : शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव के 88वें शहीदी दिवस पर हुसैनीवाला बॉर्डर स्थित शहीदी स्मारक पर फिरोजपुर के डिप्टी कमिश्नर चंद्र गैंद नतमस्तक हुए। प्रशासनिक अधिकारियों के साथ डिप्टी कमिश्नर ने यहां शहीदी ज्योति को माथा टेका और शहीदों की प्रतिमाओं को फूल-मालाएं पहनाई। डिप्टी कमिश्नर चंद्र गैंद इससे पहले सुबह 9 बजकर 10 मिनट पर शहीदी स्मारक को रवाना होने वाली पहली मेला स्पेशल ट्रेन में आम जनता के साथ बैठकर हुसैनीवाला बॉर्डर तक पहुंचे।
उन्होंने आम लोगों के बीच बैठकर फिरोजपुर शहर से हुसैनीवाला बॉर्डर तक का दस किलोमीटर का सफर तय किया। अपने बीच डिप्टी कमिश्नर को देखकर लोग आश्चर्यचकित हुए। डिप्टी कमिश्नर श्री चंद्र गैंद ने ट्रेन में बैठे लोगों से बातचीत की। नशे की समस्या समेत कई अहम पहलुओं पर पब्लिक का फीडबैक लिया। शहीदी मेले पर अपनी पत्नी नेहा के साथ माथा टेकने जा रहे बलविंदर सिंह ने बताया कि वह कई सालों से शहीदी मेले पर परिवार के साथ माथा टेकने जाते हैं लेकिन पहली बार ऐसा हुआ है कि कोई डिप्टी कमिश्नर आम जनता के बीच बैठकर ट्रेन में सफर कर रहा है।
उन्होंने डिप्टी कमिश्नर श्री चंद्र गैंद के साथ अपने गांव की कुछ समस्याओं को लेकर भी बातचीत की। डिप्टी कमिश्नर श्री चंद्र गैंद ने कहा कि ये ऐतिहासिक रेल ट्रैक है क्योंकि यहां 1887 में रेल सेवा शुरू हो गई थी। यहां से ट्रेन गंडासिंह वाला, कसूर जंक्शन और रावलविंड जंक्शन (अब पाकिस्तान में) तक जाया करती थी। 1947 में देश की आजादी तक यहां ट्रेन चलती थी। 1912 में यहा पंजाब मेल चलाई गई थी, जोकि अब भी चल रही है।
इस ट्रैक पर हमारे शहीदों ने भी सफर किया था। इसलिए वह भी इस ट्रैक पर जाकर उस भावना की अनुभूति करना चाहते थे। हुसैनीवाला ट्रेन स्टेशन से उतरकर वह शहीदी स्मारक तक पहुंचे और शहीदों के समाधि पर शीश नवाया। बीएसएफ के कमांडेंट शिव ओम, सैकेंड इन कमांड अमरजीत सिंह, डिप्टी कमांडेंट सीता राम ने डिप्टी कमिश्नर का यहां पहुंचने पर स्वागत किया।
डिप्टी कमिश्नर श्री चंद्र गैंद ने बताया कि ट्रेन में हुई लोगों से बातचीत के बाद जनता की मांग को देखते हुए वह रेलवे अथारिटी को हर रविवार इस ट्रैक पर ट्रेन चलाने के लिए लिखेंगे। ये मामला रेलवे की हाई अथारिटी के समक्ष भी उठाएंगे। अगर यहां हर रविवार को ट्रेन चलती है तो लोग आसानी से शहीदी स्मारक तक पहुंचकर इस पावन स्थल के दीदार कर सकते हैं। उन्होंने नवनिर्मित हुसैनीवाला रेलवे स्टेशन का भी जायजा लिया।
इस दौरान स्वीप मुहिम के तहत शहीदी स्मारक पर एक खास स्टॉल लगाया गया, जिस पर वीवीपैट मशीन प्रदर्शनी के लिए रखी गई। इस बार लोकसभा चुनाव वीवीपैट मशीनों पर हो रहे हैं। इन मशीनों की खासियत यह है कि वोट डालने वाला वोटर किसी कैंडीडेट को वोट डालने के बाद उसकी रसीद भी चैक कर सकता है। मगर ये रसीद वोटर को नहीं दी जाती और खुद ही नष्ट हो जाती है।
इस काउंटर पर वोटर्स को लोकसभा चुनाव में ज्यादा से ज्यादा वोट करने के लिए अपील की गई, साथ ही एक हस्ताक्षर मुहिम चलाई गई। डिप्टी कमिश्नर श्री चंद्र गैंद ने सबसे पहले हस्ताक्षर करके इस मुहिम का आगाज किया। रेलवे अधिकारियों की तरफ से शहीदी स्मारक पर हुसैनीवाला रेल ट्रैक से संबंधित तस्वीरें भी एक होर्डिंग बोर्ड के जरिए यहां लगाई गई। ऐतिहासिक ब्रिज का विवरण भी इस बोर्ड पर दिया गया था।
Please follow and like us: