भारत-पाक तनाव के बीच ट्विटर पर उठी मांग-युद्ध नहीं, अभिनंदन चाहिए

नई दिल्ली, (PNL) : शांति का राग अलाप रहा पाकिस्तान अब क्रूरता पर उतर आया है. एक तरफ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अपने बयान में कहते हैं कि वह शांति चाहते हैं, तो वहीं उनकी सेना भारत के एक कमांडर को हिरासत में ले तस्वीरें साझा करती है. जो कि अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन है. लेकिन अपनी शेखी दिखाने के चक्कर में पाकिस्तान ये भूल गया है कि उसने इस बार बहुत बड़ी गलती कर दी है.
पूरा हिंदुस्तान अपने लापता एयरफोर्स के विंग कमांडर के साथ खड़ा नजर आ रहा है. पाकिस्तान को ये मान लेना चाहिए कि उसे अभिनंदन को सकुशल हिंदुस्तान को लौटाना ही होगा. सोशल मीडिया से लेकर हर तरफ अभिनंदन को वापस लेने के लिए अभियान छिड़ा है और हर कोई उनकी जांबाजी को सलाम कर रहा है.
जैसे ही पाकिस्तानी सेना ने दावा किया कि भारतीय वायुसेना का अभिनंदन वर्धमान उनके कब्जे में उसी के बाद से ही ट्विटर पर वह चर्चा का विषय हैं. सभी लोग उनकी पुरानी तस्वीरें साझा कर रहे हैं और उनके साहस को सलाम कर रहे हैं.
ट्विटर पर यूजर्स #Abhinandan, #BringBackAbhinandan हैशटैग के साथ ट्वीट कर रहे हैं. इसके अलावा #SayNoToWar हैशटैग के जरिए शांति की अपील की जा रही हैं. ना सिर्फ आम यूजर्स बल्कि कई बड़े पत्रकार और हस्तियां भी इस हैशटेग का इस्तेमाल कर रहे हैं.
भारतीय पायलट का बाल भी बांका नहीं कर सकता पाकिस्तान
अंतरराष्ट्रीय जिनेवा संधि में युद्धबंदियों को लेकर नियम बनाए गए हैं. इसके तहत युद्धबंदियों को डराने-धमकाने का काम या उनका अपमान नहीं किया जा सकता. युद्धबंदियों को लेकर जनता में उत्सुकता पैदा भी नहीं करनी है. संधि के मुताबिक, युद्धबंदियों पर या तो मुकदमा चलाया जाएगा या फिर युद्ध के बाद उन्हें लौटा दिया जाएगा.
बड़बोला पाकिस्तान
पाकिस्तानी सेना के मेजर जनरल आसिफ गफूर ने पहले तो ये कहा कि पाकिस्तान के कब्जे में भारत के दो पायलट हैं लेकिन शाम होते होते पाकिस्तान को अपने बड़बोलेपन का अहसास हुआ. बाद में उसने माना कि दो नहीं बल्कि एक पायलट ही उनके पास है. पाकिस्तानी फौज के प्रवक्ता को पता चल चुका था कि पाकिस्तान के झूठ का पर्दाफाश हो चुका है. लिहाजा, चंद घंटों में ही यूटर्न ले लिया.
Please follow and like us: