नन से रेप के आरोपी बिशप ने छोड़ा पद, खुद ही जारी किया लेटर

जालंधर, (PNL) : केरल की नन के साथ रेप मामले में मिशनरीज ऑफ जीसस संस्था से क्लीन चीट मिलने के एक दिन बाद जालंधर के बिशप फ्रैंको मुलक्कल ने अपने पद से अस्थायी रूप से इस्तीफा दे दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मुलक्कल ने अपने उत्तराधिकारी के रूप में दो लोगों को नियुक्त किया है और विश्वास जताया है कि वह इस पूरे मामले में पाक साफ होकर निकलेंगे.
जालंधर के बिशप फ्रैंको मुलक्कल ने कहा कि मुझे केरल में जांच अधिकारी द्वारा आगे स्पष्टीकरण के लिए बुलाया जाने की संभावना है. वहीं यह पूरा मामला वेटिकन पहुंच गया है. भारत से चर्च का एक प्रतिनिधि वेटिकन में है और उम्मीद की जा रही है कि आने वाले दिनों में वह इस मामले में हस्तक्षेप कर सकता है.
इस पूरे मामले में पीड़िता की तस्वीर जारी करने को लेकर मिशनरीज ऑफ जीसस के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है. कैथोलिक पादरी फॉदर ऑगस्टीन ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के कानूनों के उल्लंघन करते हुए मिशनरीज ऑफ जीसस ने शिकायतकर्ता की तस्वीर जारी कर दी. यह धारा 228 ए का उल्लंघन है. उन्होंने कहा कि हम समझते हैं कि मिशनरीज ऑफ जीसस के काउंसलर ने ऐसा किया है. अब तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.
वहीं पीड़िता के भाई ने कहा कि मिशनरीज ऑफ जीसस ने शुक्रवार को मेरी बहन की फोटो और लेटर को जारी किया. मैं इसकी निंदा करता हूं. यह बेहद शर्मनाक है. वे हमारी बहन को प्रताड़ित करना चाहते हैं. फॉदर ऑगस्टीन ने कहा कि ऐसा शिकायतकर्ता पर दबाव बनाने और आरोपी को बचाने के लिए किया गया था. हम इस मामले में आरोपी को तुरंत गिरफ्तार की मांग करते हैं. उन्होंने कहा हमारा प्रदर्शन तब तक जारी रहेगा जब तक आरोपी गिरफ्तार नहीं हो जाता.
वहीं प्रदर्शन में शामिल सिस्टर अनुपमा ने कहा कि हम किसी से भी मिलने नहीं जा रहे हैं. हमने नुनसिओ से मिलने का समय मांगा था लेकिन हमें समय नहीं मिला. सिस्टर अनुपमा ने कहा हमें अभी भी चर्च पर भरोसा है. हमने चर्च नहीं छोड़ा है. लेकिन वे हमें नहीं सुन रहे हैं. सरकार में कुछ लोग ने हमारा समर्थन किया है. पूर्व सीएम अच्युतानंदन से हमारी फोन पर बात हुई. लेकिन सीएम विजयन से अब तक हमारा संपर्क नहीं हो पाया है.
Please follow and like us:
error: Content is protected !!