धमाकों पर सेना प्रमुख का बड़ा बयान, बोले-देश से बाहर किए जाएं अवैध प्रवासी

नई दिल्ली, (PNL) : पंजाब में हो रहे बम धमाकों को लेकर सेना प्रमुख बिपिन रावत ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि भारत में अवैध प्रवासियों की समस्याएं लगातार बढ़ती जा रही है और इसपर सियासत भी जोरों पर है। वहीं असम में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन यानी NRC में अपना नाम शामिल करवाने के लिए अब महज तीन हफ्तों का समय बचा है। उन्होंने कहा कि वो एनआरसी का समर्थन करते हैं और जो पार्टियां इसका विरोध कर रही हैं वह राष्ट्रीय सुरक्षा को कमजोर कर रही हैं। इसी कारण बम धमाके भी हो रहे हैं।
सेनाध्यक्ष ने अपने एक इंटरव्यू में कहा कि भारतीय सेना द्वारा किए जाने वाली नकली मुठभेड़ और मानवाधिकार के उल्लंघन की बातें झूठी हैं। उन्होंने कहा कि वह उन लोगों को वापस भेजे जाने का समर्थन करते हैं जो गैरकानूनी तरीके से भारत में आए हैं। रावत ने कहा, ‘यदि वह अवैध हैं तो उन्हें वापस भेजे जाने की जरूरत है। यदि वह वैध हैं तो उन्हें अपने में मिला लेना चाहिए। यह एकीकरण इस तरह होना चाहिए जिसका सभी को फायदा मिले। इसका राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए।’
सेनाध्यक्ष रावत के मुताबिक राजनीतिक पार्टियां अवैध प्रवासियों की मदद कर रही हैं। उन्होंने कहा, ‘कुछ ऐसे संस्थान हैं जिन्होंने उन्हें सिस्टम में मिला दिया है। कुछ ऐसे लोग हैं जो अवैध रूप से आए हैं उनके पास नागरिकता नहीं है लेकिन कुछ ऐसे लोग हैं जो नागरिकता हासिल करने की कोशिश में है।’ फरवरी में रावत ने असम के सांसद बदरुद्दीन अजमल के नेतृत्व में ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के बढ़ने को लेकर बात की थी। उन्होंने कहा था, ‘एक पार्टी है जिसका नाम एआईयूडीएफ है। वह भाजपा से भी ज्यादा तेजी से बढ़ी है।’
सेनाध्यक्ष ने मानवाधिकार उल्लंघन के मामले में सेना का बचाव किया है। उन्होंने उन लोगों और संस्थाओं के खिलाफ जांच करने की जरूरत बताई जो जवानों के खिलाफ झूठे केस दर्ज करवाते हैं ताकि सेना की छवि को खराब किया जा सके। उन्होंने कहा, ‘सयम आ गया है कि इस तरह के मामले दर्ज करवाने वाले लोगों की जांच की जाए।’
Please follow and like us: