जालंधर : आनंद सुसाइड केस में चावला और बंटू सारंगल को बचाने में लगी पुलिस, केस में दो की गिरफ्तारी दिखाई, पढ़ें पूरी खबर

जालंधर, (PNL) : टैगोर नगर में गोली मारकर सुसाइड करने वाले कमलजीत आनंद केस में पुलिस ने दो आरोपियों की गिरफ्तारी दिखा दी है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान टैगोर नगर के मनदीप सिंह मोनू और दयाल नगर के   लखबीर सिंह लक्की के रूप में हुई है। केस में पुलिस सरबजीत सिंह बिट्टू चावला और शशि भूषण उर्फ बंटू सारंगल को राहत देती नजर आ रही है। पुलिस ने कहा कि इन दोनों की गिरफ्तारी जांच के बाद ही होगी। सूत्र बताते हैं कि पुलिस पर कुछ राजनीतिक दबाव है, जिसके चलते पुलिस इन दोनों को बचाने में लग गई है।
एसीपी वेस्ट सरबजीत राय का कहना है कि केस में आत्महत्या के अलावा गैंबलिंग एक्ट और सीसीटीवी फुटेज से छेड़खानी करने की भी धारा जोड़ी गई है। केस के मुख्यारोपी कांग्रेसी नेता अरुण सहगल, पिंकी और राजू की तलाश में छापेमारी शुरू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि उस रात बिल्डिंग मटीरियल का कारोबार करने वाले चावला के घर जुआ चल रहा था, जिसमें कारोबारी कमजीत पैसे हार गया था। उसने बिट्टू चावला से 50 हजार रुपए मांगे। जब उसने देने से इंकार कर दिया तो कमलजीत ने खुद को गोली मार ली।
चावला ने खुद को बचाने के लिए बनाई रणनीति
जुआ चल रहा था चावला के घर और सुसाइड की जगह भी उसका घर। ऐसे में चावला की गिरफ्तारी जांच के बाद होना थोड़ा समझ से परे लग रहा है। बताया जा रहा है कि चावला ने खुद को बचाने के लिए घटना के बाद से रणनीति बना ली थी। पहले उसने सबूत मिटाए। जब बात नहीं बनी तो उसने अपने करीबियों को आनंद की पत्नी के पास भेजा। किसी तरह बयानों में खुद को बचाने का पूरा प्रयास किया, जिसमें वह सफल रहा। अब बात घर में जुआ खेलाने और सबूतों से छेड़छाड़ करने की। चाहे पुलिस उसे सुसाइड केस में बचा ले, लेकिन वह जुआ और सबूतों की धारा से उसे नहीं हटा सकती।
Please follow and like us: