अमृतसर : दशहरे का आयोजन करने वाला कांग्रेसी नेता फरार

अमृतसर, (PNL) : 61 लोगों की मौत के लिए जिम्मेदार कौन है? प्रशासनिक अमला इस सवाल से अब तक मुंह चुराता दिख रहा है. रेलवे ने तो साफ-साफ खुद को निर्दोष करार दिया है. आम लोग रामलीला आयोजक पर सवाल उठा रहे हैं. रामलीला की आयोजक कांग्रेस की पार्षद विजय मदान थी. विजय का बेटा सौरभ मदान उर्फ मिट्ठू मदान ने आयोजन में सक्रिय भूमिका निभाई. अब दोनों फरार हैं.
दशहरे के दिन यानि कल रावण दहन के लिए मदान ने नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू को मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाया था. वो मंच पर मौजूद थी. सौरभ मदान ने इस दौरान नवजोत कौर की जमकर तारीफ की. नवजोत के दावों के मुताबिक, हादसे से ठीक पहले वो वहां से चली गई थी.
नवजोत कौर के जानें के बाद पास से गुजर रही ट्रेन ने सैकड़ों लोगों को अपनी चपेट में ले लिया था. सभी ट्रैक पर खड़े होकर रावण दहन का कार्यक्रम देख रहे थे. पटाखों की आवाज की वजह से ट्रेन की आवाज सुनाई नहीं दी. रेलवे ने कहा है कि अगर स्थानीय प्रशासन से इसकी सूचना पहले मिली होती तो हादसे को टाला जा सकता था.
Please follow and like us:
error: Content is protected !!