बरगाड़ी मामले में सम्मन किए जाने पर अक्षय कुमार ने तोड़ी चुप्पी, पढ़ें क्या बोले अभिनेता

मुंबई, (PNL) : तीन साल पहले पंजाब के फरीदकोट स्थित बरगाड़ी में सिखों के पवित्र ग्रंथ के अपमान के मामले में पंजाब की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) की तरफ़ से अक्षय कुमार को भेजे गए समन के एक दिन बाद आज खिलाड़ी कुमार ने इस मामले में चुप्पी तोड़ते हुए ऐसे आरोपों को बेबुनियाद बताया है।
बता दें कि अक्षय के साथ पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और पूर्व उप मुख्यमंत्री सुखबीर बादल को भी समन भेजा गया है। अक्षय ने आज सोशल मीडिया के जरिये अपना बयान जारी किया। अक्षय कुमार ने गुरमीत राम रहीम से मिलने की बात को सिरे से नकार दिया है।
अक्षय कुमार ने इस वक्तव्य में लिखा है कि ऐसा ध्यान में आ रहा है कि मेरे बारे में कुछ गलत जानकारियां और गलत बातें सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही है कि मैं गुरमीत राम रहीम सिंह नामक किसी व्यक्ति को मिला हूं जिसमें मेरे साथ सुखबीर सिंह बादल भी थे। मैं बड़ी विनम्रता से कुछ तथ्य बताना चाहता हूं। अक्षय ने लिखा है –
पहला – मैं अपने जीवनकाल में कभी भी और कहीं भी गुरमीत राम रहीम सिंह नामक व्यक्ति से नहीं मिला।
दूसरा – मैं सोशल मीडिया के कुछ बातों से यह समझ पाया कि गुरमीत राम रहीम सिंह मुंबई के जुहू इलाके में कहीं रहते हैं लेकिन मेरी कभी उनसे भेंट नहीं हुई है।
तीसरा – मैं लगातार कई वर्षों से पंजाबी संस्कृति और उसके स्वर्णिम इतिहास और सिख धर्म के संस्कारों को अपनी फिल्मों के माध्यम से, जिनमें सिंह इस किंग या केसरी (जोकि बैटल ऑफ सारागढ़ी पर आधारित) है, के माध्यम से प्रचार करता रहा हूं।
मुझे पंजाबी होने पर गर्व है और मैं सिख धर्म के प्रति बहुत आदर रखता हूं। मैं तिल के बराबर भी ऐसा कोई काम नहीं करूंगा जिससे मेरे पंजाबी भाइयों और बहनों की भावनाओं को दुख पहुंचे। उनके प्रति मेरे मन में बहुत आदर और प्रेम हैl ऊपर लिखे हुए सभी वक्तव्य पूर्णतया सत्य हैं। मैं उन लोगों को चुनौती देता हूं जो लोग इसे गलत साबित कर दें
-अक्षय कुमार’
अक्षय कुमार को एस आई टी के सामने 21 नवम्बर को अमृतसर के सर्किट हाउस में पेश होने को कहा गया है। सभी को बरगाड़ी में अपमान और कोटकपुरा तथा बहिबल कलां में फायरिंग के संबंध में जांच के संदर्भ में उपस्थित रहने को कहा गया है।
Please follow and like us: