घर पहुंची तो फूट पड़े युवती के आंसू, कहा- विदेश में झेली यातना, दो बार बिकी

PNL, अमृतसर। बेहतर जिंदगी और परिवार की वित्तीय मदद का सपना लेकर विदेश गई जालंधर की युवती दो बार बेची गई। मस्कट (ओमान) में उसने नौ महीने पशुओं के बाड़े में पशुओं की जिंदगी बिताई। वह सरबत दा भला ट्रस्ट के प्रमुख डॉ. एसपी सिंह ओबराय के प्रयासों से वतन लौटी। श्री गुरु रामदास जी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर पहुंचने पर वह अपने पिता व मां के गले लगकर फूट-फूट कर रोई।

जालंधर के शाहकोट कस्बा के एक गांव की रहने वाली युवती ने बताया कि वह नवंबर 2017 में यूनाइटेड अरब अमीरात (यूएई) गई थी। वहां एजेंट ने उसे 14000 दुबई करंसी में बेच दिया। उसके बाद एजेंटों ने उसे गैर कानूनी तौर पर मस्कट में भेजकर वहां के एक जमींदार को 1400 ओमान की करंसी में बेच दिया। उसका मालिक पिस्तौल से डरा कर उससे सुबह से रात तक पशुओं की देखभाल व घरेलू काम करवाता था।

युवती के मुताबिक उसे पशुओं के बाड़े में ही रखा जाता था। कभी बीमार पड़ने पर काम करने से मना करती तो उसके साथ पशुओं की तरह व्यवहार और अत्याचार किया जाता। उसने फरवरी 2018 में अपने परिजनों को फोन कर कहा कि अगर 1400 ओमान की करंसी (2 लाख 37 हजार रुपये) उसके मालिक के खाते में डाल दें तो वह भारत लौट सकती है।

Please follow and like us: